Thursday, September 24, 2009

क्या उसकी राह देखना

क्या उसकी राह देखना वो जो गया, गया ।
हमसे न जाने कितनी दफा ये कहा गया।

उकसा गया था कोई सियासत की आंधियां,
उढ़कर किसी की आँख में तिनका चला गया

जिसके लिए थे जाम शाम सारी रौनकें ,
वो ही हमारी बज्म से प्यासा चला गया ।

ऊंचाइयों से अपने तलक हो गए खफा,
हम पंछियों को शाख का भी आसरा गया।

खामोशियों की कर जो रहा था वकालतें,
आंखों को बोलने का सलीका सिखा गया।

15 comments:

lalit sharma said...

ब्लॉग जगत में आपका स्वागत हैं, लेखन कार्य के लिए बधाई
यहाँ भी आयें आपके कदमो की आहट इंतजार हैं,
http://lalitdotcom.blogspot.com
http://lalitvani.blogspot.com
http://shilpkarkemukhse.blogspot.com
http://ekloharki.blogspot.com
http://adahakegoth.blogspot.com
http://www.gurturgoth.com
http://arambh.blogspot.कॉम

हितेंद्र कुमार गुप्ता said...

Bahut Barhia... aapka swagat hai... isi tarah likhte rahiye...

thanx
http://mithilanews.com



Please Visit:-
http://hellomithilaa.blogspot.com
Mithilak Gap...Maithili Me

http://mastgaane.blogspot.com
Manpasand Gaane

http://muskuraahat.blogspot.com
Aapke Bheje Photo

Udan Tashtari said...

स्वागत है, नियमित लिखें.

सुलभ सतरंगी said...

आपके ब्लॉग पर आना अच्छा लगा. बहुत स्वागत है आपका. निरंतर लेखन से अब ब्लॉगजगत को समृद्ध करे.

-Sulabh Satrangi ( यादों का इंद्रजाल )

Mustfa Mahir Pantnagari said...

thanks for feedback

jayram " viplav " said...

kuch aalekh v likha kijiye to achcha lgega .....................

नारदमुनि said...

narayan narayan

अरुण राजनाथ / अरुण कुमार said...

आओ भाई आओ! स्वागत है! शुरुआत में ही नाज़ुक सी कविता दे दी, आगे क्या विचार है प्यारे?

Amit K Sagar said...

चिट्ठा जगत में आपका हार्दिक स्वागत है. सतत लेखन के लिए शुभकामनाएं.

---
Till 30-09-09 लेखक / लेखिका के रूप में ज्वाइन [उल्टा तीर] - होने वाली एक क्रान्ति!

Dr. shyam gupta said...

"श्याम हमने तो बहुत चाहा कि रुक कर बरसे,
वो थी बदली जो चली उडके,तो उडती ही गयी।"

चंदन कुमार झा said...

बहुत सुन्दर रचना । आभार

चिट्ठाजगत में आपका स्वागत है.......भविष्य के लिये ढेर सारी शुभकामनायें.

गुलमोहर का फूल

Deepak "बेदिल" said...

good

रचना गौड़ ’भारती’ said...

सुन्दर रचना । बधाई । ब्लोग पर स्वागत है ।

संजय भास्कर said...

बहुत सुन्दर रचना । आभार

चिट्ठाजगत में आपका स्वागत है.......भविष्य के लिये ढेर सारी शुभकामनायें.

SANJAY
http://sanjaybhaskar.blogspot.com

संजय भास्कर said...

बहुत सुन्दर रचना । आभार
भविष्य के लिये ढेर सारी शुभकामनायें.

SANJAY
http://sanjaybhaskar.blogspot.com